TDS Kaise Bhare ? जानिए TDS भरने के फ़ायदे क्या होते है?

How to to file TDS? what are advantages of TDS filing?

TDS सरकार के द्वारा Tax लेने का तरीका है। जिससे Tax की चोरी को रोका जा सकता है। इसके और भी फ़ायदे है जो सरकार और जनता दोनों को होते है। अगर  आप प्रति वर्ष Tax भरते है तो आपको यह पता होना चाहिए की TDS Kaise Bhare 2020? जानिए TDS भरने के फ़ायदे क्या होते है? TDS Kaise Nikalte Hai?

यदि आपको नहीं पता तो आज की Post में आपको TDS Kaise Nikale इसकी पूरी जानकारी मिलेगी।

TDS Kya Hota Hai (TDS In Hindi)

टीडीएस क्‍या है

किसी व्यक्ति की आय Income में से Tax काटकर अगर बची हुई Income दे दी जाये तो Tax के रूप में जो आय Income काटी जाती है उसे TDS कहते है। TDS काटने के बाद यही राशि सरकार के पास जमा हो जाती है। सरकार TDS के द्वारा भी Tax जमा करती है।

TDS Income Tax का ही एक रूप है। TDS कई तरह के Income Sources (आय स्रोतों) पर काटा जाता है। जैसे किसी Investment पर मिले Interest या Commission आदि पर।

FULL FORM OF TDS – “TAX DEDUCTED AT SOURCE”

टीडीएस फुल फॉर्म – “स्त्रोत पर कर कटौती”

TDS आयकर अधिनियम 1961 के द्वारा Income Tax जमा करने का एक तरीका है। जिसे सरकार Advance जमा करती है। यह Payment Tax का ही एक तरीका है तथा इसके अलावा Advance Tax और Self Assessment Tax भी Payment के तरीके है।

अलग-अलग तरह के Payment के लिए Income Tax कानून में अलग-अलग तरह की TDS Rates होती है। TDS में Payment जिस तरह का होता है उस हिसाब से Rate लगाया जाता है। यह Payment पर निर्भर करती है।

TDS Kya Hai यह तो आपने जान लिया।

अब आगे आपको TDS भरने के फ़ायदे बताए गए है।

TDS Ke Fayde (Benefits)

टीडीएस क्या होता है यह तो आपको पता चल गया और यह किन Sources पर काटा जाता है यह भी आपने जाना।

TDS से सिर्फ सरकार को ही फायदा नहीं होता है, बल्कि इससे Income Earners को भी फ़ायदा होता है।

तो जानते है TDS के इन फ़ायदों के बारे में।

  • अगर आप Tax भरते है तो इससे हमारे ही देश का विकास होता है। Tax भरने से सरकार के पास पैसा आता है जो की देश के विकास में ही सहायक होता है।
  • Tax की चोरी रोकना  इससे Tax की चोरी रुक जाती है तथा जिन लोगों की आय Income ज्यादा है वह Tax की चोरी नहीं कर पाएँगे।
  • Tax भरने से सरकार की अच्छी Income होती है। जिसके द्वारा सरकार खर्च और व्यवस्था को सही तरीके से पूरा कर पाती है।
  • TDS के द्वारा सिर्फ नौकरी पेशा लोग ही Tax नहीं भरते बल्कि वे लोग जो किसी ना किसी तरह से अच्छी Income करते वे सभी Tax भरते है।
  • जिन लोगों की अच्छी Income होती है वह TDS के द्वारा Tax के Under आ जाते है जिससे की Salaried Person से लेकर अन्य Profession में आने वाले लोगों द्वारा सरकार Revenue प्राप्त कर पाती है।

यह सारे फ़ायदे होते है TDS भरने के जो सरकार और जनता दोनों के लिए है।

अब आगे हम आपको यह बताएंगे की TDS टीडीएस कैसे भरते है।

TDS Kaise Bhare – TDS Kaise Jama Kare

 

क्या आप भी TDS भरना चाहते है ? लेकिन आपको नहीं पता की TDS कैसे भरना है।

तो इसके बारे में आपको आगे बताए गया है।

TDS Online भरने के लिए नीचे कुछ Steps दी गई है तो Follow करे यह Steps और जाने की TDS कैसे भरा जाता है।

Go To Website : सबसे पहले आपको Nsdl की Website पर जाना है।

Challan No./ Itns 281 : यहाँ TDS Challan No./ Itns 281 Select करना है।

E- Payment Form : इसके बाद एक Form Open होगा। जिसे आप पूरा सही से भरे।

Tax Applicable : अगर किसी Company का चालान भरने के लिए Company Deductees को Select करे। अगर company के लिए नहीं भरना है तो किसी दूसरे फर्म, संस्था व्यक्ति के लिए Non – Company Deductees को Select करे।

Tax Deduction Account No./Assessment Year : इस Option में Tan Number Enter करे और Assessment Year Enter करे लिए आपको Payment करना है।

Basic Details : इसमें Basic Details को भरना है।

  • अपना पूरा नाम लिखे जो Pan Card में लिखा हो।
  • Flat No., Street, Address, City, Pin Code, State, Locality को भरे।
  • Email Id और Mobile Number लिखे।

Type Of Payment : इसमें आपको Payment Select करना है। आपको जो भी Tax भरना है वो Select करे।

  • Select Net Banking – इसमें Bank Name Select करना है, Net Banking की Site पर जाये और Login करे।
  • Select Account – अपना Account Select करे।
  • Enter The Amount – Basic व Others के लिए Tax की Calculation करके Amount Fill करे और Proceed पर Click करने के बाद Submit कर दे।

इस तरह से आप इन Steps को Follow करके TDS भर सकते है।

आप इस Process को Follow करके TDS भर सकते है।

TDS Kaise Kata Jata Hai? (Tax Deducted At Source)

 

तो अब आप ऊपर बताए गए तरीके से आसानी से TDS भर पाएँगे।

आपकी Salary में से आपका TDS तो कटता है लेकिन…

… क्या आप जानते है की यह किस तरह से काटा जाता है।

अगर आपको नहीं पता TDS Kaise Kate तो इसके बारे में नीचे बताया जा रहा है।

आय (Income) और व्यय (Investment) जैसे Salary, Bank से मिलने वाला ब्याज, घर का किराया और कमीशन का भुगतान आदि TDS के अंदर आते है। Payment करते समय कुछ पैसे काट लिए जाते है इसे TDS की कटौती करना कहा जाता है। इसके बारे में Deductee को पहले से पता होता है।

जो Company TDS काटती है उसे Deductor कहा जाता है। तथा जिसका TDS काटते है उसे Deductee कहा जाता है। TDS बहुत से Payment पर काटते है जैसे- Interest, Rent , Dividend, Commission, Salary आदि। Employer के द्वारा Employees को दी जाने वाली Salary पर भी TDS काटा जाता है।

जिसकी Income से Tax काटा जाता है उसे भी TDS Certificate मिलने का अधिकार होता है

तो अगर आप यह जानना चाहते है की आपका TDS कटा है या नहीं तो इसके लिए आपको नीचे जानकारी दी गई है।

TDS Kaise Check Kare

Form 26 As में TDS Ke Bare Me Jankari दी जाती है। इस Form में काटे गए Tax और जमा की जाने वाली रकम के बारे में पूरी तरह से बताया जाता है। कितना TDS कटा है या इसे आपके नाम से जमा किया गया है या नहीं तो आइये अब जानते है की टीडीएस TDS check चेक कैसे करते है।

  • Visit Official Website : सबसे पहले Incometaxindiaefiling की Official Website पर जाना है।
  • Register Yourself : अब यहाँ Register Yourself के Option पर Click करना है।
  • Select User Type : इसमें आपको User Type Select करना है।
  • Enter Details : यहाँ आपको Pan में दी गई Details के आधार पर सारी जानकारी देनी है। जिसके बाद Password Generate करना है।
  • Login Account : अब User Id और Password के द्वारा Account को Login करे।
  • Click View Tax Credit Statement (26 As) :  इसके बाद आपको यह Option दिखेगा इस पर Click करे।

बस इस पर Click करने के बाद Traces (TDS Reconciliation Analysis And Correction Enabling System) की Website पर पहुँच जाओगे जहाँ आपको TDS की सारी जानकारी मिल जाएगी।

TDS Rates (टीडीएस की दरें)

TDS की विभिन्न तरह की दरे है आगे आपको TDS Ke Section के साथ TDS Rates बताये जा रहे है।

आगे आपको एक TDS Rates बताए जा रहे है जिसमें TDS Section को भी बताया गया है। इससे आपको TDS Rates समझने में आसानी होगी। तो चलिए जानते है इन Rates को।

Nature Of Payment Relevant Section TDS Rate (Rate At Which Tax Is To Be Deducted At Source)
Salaries Section 192 At Applicable Income Tax Rates Inclusive Of Cess.
Accumulated Taxable Part Of PF Section 192A 10%
Interest on
Securities
Section 193 10%
Deemed Dividend Section 194 10%
Interest Other Than Interest On securities Section 194A 10%
Winning Of Lottery, Crossword Or Any Sort Of Game Section 194B 30%
Winning From Horse Races Section 194BB 30%
Insurance Commission Received By an Individual Section 194D 5%
Life Insurance Policies Not Exempt Under Section 10(10)D Section 194DA 1% In Case Payment In FY Exceeds Rs 1 Lakh
Commission Or Brokerage Received Expect For Insurance Commission Section 194H 5% In Case Payment In FY Exceeds Rs 15,000
Payment Made While Purchasing Land Or Property Section 19IA 1%
Payment Of Rent By Individual Or HUF Exceeding Rs. 50,000 Per Month Section 19IB 5%

तो यह थी TDS की दरे जो आपको ऊपर बताई गई।

यहाँ आपने TDS के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त की अब आप भी आसानी से इस Post के द्वारा TDS भर पाएँगे।

इसके साथ ही आपको TDS से जुड़ी और भी जानकारी मिली।

  • TDS क्या है। TDS kya hai? What is TDS?
  • TDS के फ़ायदे क्या है।  TDS ke faayde kya hai? What are the benefits of TDS?
  • TDS कैसे भरे। TDS Kaise Bhare?  How to File TDS?
  • TDS कैसे कटता है। TDS Kaise kata jata hai? How to deduct TDS?
  • TDS कैसे Check करे।  TDS Kaise check kare? How to check TDS?
  • TDS कैसे निकाले। TDS Kaise Nikaale? How to Withdraw TDS?
  • TDS की Rates क्या है? TDS ki Rates kya hai? What are the rates of TDS?

Related Articles

Back to top button
Close