PGDCA Kaise Kare? – पीजीडीसीए पाठ्यक्रम के लिए योग्यता, फीस, कॉलेज और सिलेबस!

What is PGDCA ?

आज इस Article में आपको बतायंगे की PGDCA Kaise Kare? कंप्यूटर एप्लीकेशन में पोस्ट ग्रेजुएशन डिप्लोमा एक 1 वर्ष का प्रोफेशनल कोर्स होता है, जिसके लिए न्यूनतम योग्यता 10वीं 12वीं और 3 साल की किसी भी फील्ड में ग्रेजुएशन डिग्री होना चाहिए। पीजीडीसीए पाठ्यक्रम के लिए भारत में औसत ट्यूशन शुल्क 2,000 रूपये से 18 लाख रूपये के बीच 3 साल के लिए है। यदि आप भी ग्रेजुएशन करने के बाद कंप्यूटर के क्षेत्र में एक अच्छी नौकरी की तलाश में है, तो PGDCA आपके लिए एक अच्छा विकल्प हो सकता है।

PGDCA Kaise Kare

आज इस Article में आपको बतायंगे की PGDCA Kaise Kare? आज हर जगह कंप्यूटर का ही ज्यादा उपयोग किया जाता है। अगर आप भी PGDCA करते है तो यह नौकरी प्राप्त करने में आपके बहुत काम आएगा। यदि आपने भी अभी हाल ही में अपना ग्रेजुएशन किया है और आप भी कंप्यूटर के क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाह रहे है तो यह आपके लिए एक अच्छा विकल्प हो सकता है। तो इस पोस्ट के माध्यम से आपको PGDCA से जुड़े सारे सवालों के जवाब मिलेंगे जैसे- पीजीडीसीए का कोर्स, PGDCA Kaise Kare, कब करे, इसके फायदे आदि। चलिए शुरू करते है PGDCA Kaise Kare?

PGDCA Kya Hai

पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन कंप्यूटर एप्लीकेशन (पीजीडीसीए) उन स्नातक छात्रों के लिए बनाया गया है जो कंप्यूटर एप्लिकेशंस में रुचि रखते है। यह कार्यक्रम छात्रों को कंप्यूटर एप्लिकेशंस में प्रोफेशनल ज्ञान प्राप्त करने की अनुमति देता है। भारत में, PGDCA Course Duration एक वर्ष की है जिसे कोई भी छात्र ग्रेजुएशन होने के बाद कर सकता है। फिर चाहे आपने किसी भी विषय में ग्रेजुएशन किया हो, आप PGDCA कोर्स कर सकते है। इस पाठ्यक्रम में 6-6 महीने के 2 सेमेस्टर होते है, प्रथम सेमेस्टर में कंप्यूटर भाषा की पढ़ाई की जाती है, जैसे- C, C++, MS Office, Java, Tally आदि।

PGDCA Full Form:

PGDCA KA FULL FORM – POST GRADUATE DIPLOMA IN COMPUTER APPLICATION होता है !

द्वितीय सेमेस्टर में छात्रों को प्रोजेक्ट वर्क दिया जाता है। यदि आप कंप्यूटर फील्ड में करियर बनाना चाहते है, जैसे कंप्यूटर ऑपरेटर, प्रोग्रामर तो आप इस कोर्स को कर सकते है। जब आप किसी जॉब के लिए अप्लाई करते है तो आप इस कंप्यूटर डिप्लोमा को दिखा सकते है। जो भी छात्र PGDCA पाठ्यक्रम के लिए प्रवेश पाना चाहते है वे PGDCA IGNOU, माखनलाल चतुर्वेदी यूनिवर्सिटी जैसी यूनिवर्सिटी से PGDCA Admission के लिए अप्लाई कर सकते है इसके अलावा और भी यूनिवर्सिटीज है जहाँ से आप यह डिप्लोमा कोर्स कर सकते है।

PGDCA Ki Full Form In Hindi:

पीजीडीसीए का फुल फॉर्म हिंदी में – कंप्यूटर एप्लीकेशन में पोस्ट ग्रेजुएशन डिप्लोमा होता है !

PGDCA की फीस अलग-अलग संस्थान में अलग-अलग हो सकती है। और PGDCA कोर्स आप IGNU, माखनलाल चतुर्वेदी विश्वविद्यालय की तरह किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से भी कर सकते है इसके अलावा और भी विश्वविद्यालय है जहाँ से आप ये कोर्स कर सकते है।

PGDCA Ke Liye Qualification

यदि आप यह खोज रहे है कि पीजीडीसीए पाठ्यक्रम योग्यता क्या होती है तो आपकी जानकारी के लिए बता दे कि किसी भी विश्वविद्यालय में कंप्यूटर एप्लीकेशन में पोस्ट ग्रेजुएशन डिप्लोमा पाठ्यक्रम में प्रवेश पाने के लिए छात्र का किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन डिग्री होना अनिवार्य है।

PGDCA Syllabus In Hindi

जो भी छात्र PGDCA Certificate कोर्स करने के इच्छुक है वे एक बार पीजीडीसीए का सिलेबस अवश्य देख ले। ध्यान रहे सभी विश्वविद्यालय के PGDCA Ke Subject या सिलेबस भिन्न हो सकते है जबकि कुछ के समान होते है:

  • Programming (VB.Net)
  • Information Technology
  • Internet & E-commerce / Web Page Designing
  • Software Development
  • Database Management System
  • Operating System (Windows, DOS)
  • Communication Skills
  • Project Work
  • Fundamentals of Computer
  • MS Office
  • (PC Packages) MS Access
  • Tally

PGDCA Ke Bad Kya Kare

अब तक आपने देखा की  PGDCA Kaise Kare? पीजीडीसीए के बाद करियर बनाने के लिए बहुत से रास्ते खुल जाते है आप PGDCA Karne Ke Baad आगे बताये गए विभिन्न क्षेत्रों में जॉब प्राप्त कर सकते है

  • कंप्यूटर ऑपरेटर
  • डाटा एंट्री ऑपरेटर
  • इंटरनेट ऑपरेटर
  • ऑफिस असिस्टेंट
  • बेसिक प्रोग्रामर
  • टीचर
  • अकाउंटेंट

PGDCA Ke Fayde

PGDCA Course Benefits काफी सारे है उनमें से कुछ के बारे में आपको आगे बताया गया है:

  • PGDCA कोर्स करने के बाद उम्मीदवार को सबसे बड़ा फायदा किसी जॉब में होता है। इससे उम्मीदवार को सरकारी, प्राइवेट, बैंकिंग, इंश्योरेंस, स्टॉक मार्केट आदि क्षेत्र में नौकरी प्राप्त करने में मदद मिलती है।
  • इसमें उम्मीदवार को कंप्यूटर की बेसिक नॉलेज के साथ ही एडवांस नॉलेज भी प्राप्त हो जाता है।
  • यह कोर्स करने के बाद उम्मीदवार सरकारी एजेंसी जैसे- ऑनलाइन सेंटर, कीओस्क बैंकिंग आदि भी खोल सकते है।
  • PGDCA Ke Bad उम्मीदवार को MCA और MBA में सीधे प्रवेश भी मिल सकता है।

इस Article में आपने सीखा PGDCA Kaise Kare

Tags

Related Articles

Back to top button
Close